KRIDA NEWS

Search
Close this search box.

KRIDA NEWS

Vaibhav Suryavanshi ने रचा इतिहास, Ranji Trophy में 12 साल 284 दिनों में किया डेब्यू; फर्स्ट क्लास में ऐसा करने वाले सातवें खिलाड़ी बने

बिहार के Vaibhav Suryavanshi ने फर्स्ट क्लास में डेब्यू करने वाले सातवें सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए हैं। वैभव ने रणजी ट्रॉफी में 12 साल 284 दिनों में डेब्यू किया। मुंबई के खिलाफ वैभव सूर्यवंशी ने डेब्यू किया। मोइनुल हक स्टेडियम में वैभव अपना पहला फर्स्ट क्लास मैच खेलेंगे। वैभव को डेब्यू कैप कोच विकास कुमार के दिया गया।

वैभव सूर्यवंशी के पिता संजीव सूर्यवंशी ने बताया कि महज 6 और 7 साल के बच्चों को मुंबई के मैदानों पर खेलते देखकर काफी आश्चर्च हुआ। उन्होंने इसी दौरान एक कोच से पूछा से किस उम्र से खेल शुरू करना चाहिए। कोच ने कहा, युवा अवस्था में शुरू करने में ज्यादा फायदा है। मुंबई में 12 साल बिताने के बाद संजीव वापस बिहार लौट आ गए। समस्तीपुर निवासी संजीव ने बताया कि बड़ा बेटा ने क्रिकेट में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाया लेकिन वैभव ने अपने पांचवें जन्मदिन पर बैट पकड़ा और गार्ड लिया तो उसमें बहुत कुछ साफ हो गया था।

उसके अगले ही दिन उसे थ्रो डाउन से प्रैक्टिस करवाना शुरू किया और ऐसा लगा कि जो खेल रहा है वह स्वाभाविक लगा। उसके बाद उसे सुधाकर रॉय (भारत के पूर्व अंडर-19 क्रिकेटर अनुकूल रॉय के पिता) द्वारा संचालित एक स्थानीय क्रिकेट शिविर में ले गया, और 15 मिनट तक उसे करीब से देखने के बाद, वह सहमत हो गया।

उन्होंने बताया, “मैं खुद एक क्रिकेट ट्रैजिक था। लेकिन बिहार में क्रिकेट तो क्या, किसी भी खेल के लिए कोई गुंजाइश नहीं थी। मैं 19 साल की उम्र में मुंबई चला गया और बहुत सारी नौकरियां कीं, जैसे कोलाबा में एक नाइट क्लब में बाउंसर के रूप में काम करना, सुलभ शौचालय में या बंदरगाह पर काम करना। मैं अपने अवकाश के दिन ओवल मैदान में बिताता था। वहां क्रिकेट खेलने वाले छोटे बच्चे पैड और हेलमेट में काफी अच्छे लग रहे थे। उनमें से कुछ तो इतने अच्छे थे कि कोई भी उन्हें घंटों तक देख सकता था। मैंने तभी तय कर लिया था कि चाहे बेटा हो या बेटी, मैं अपने बच्चों को क्रिकेटर बनाऊंगा।

बिहार में Ranji Trophy 2024 के मैच में मुंबई के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने लूटा मेला, बिहार के दर्शकों में जश्न का माहौल; जानें कैसा रहा है मोइनुल हक स्टेडियम का इतिहास

यह भविष्यवाणी सही भी साबित हुई और वैभव सूर्यवंशी ने 12 साल की उम्र में फर्स्ट क्लास में डेब्यू कर लिया। डेब्यू भी मुंबई जैसी बड़ी टीमों के खिलाफ किया। पटना के मोइनुल हक स्टेडियम में खेले जा रहे एलीट ग्रुप में बिहार का पहला मुकाबला मुंबई के खिलाफ खेला जा रहा है। इस मैच में कुल पांच खिलाड़ियों ने डेब्यू किया है। मुंबई के लिए अथर्व अंकोलेकर, बिहार के लिए हिमांशु सिंह, सरमन निग्रोध, आकाश राज और वैभव सूर्यवंशी शामिल हैं।

सबसे कम उम्र के प्रथम श्रेणी क्रिकेटर
अलीमुद्दीन 12 वर्ष 73 दिन राजपूताना बनाम बड़ौदा 1942/43
एसके बोस 12 वर्ष 76 दिन बिहार बनाम असम 1959/60
आकिब जावेद 12 वर्ष 76 दिन लाहौर डिवीजन बनाम फैसलाबाद 1984/85
मोहम्मद अकरम 12 वर्ष 217 दिन खैरपुर बनाम क्वेटा 1968/69
मोहम्मद रमज़ान 12 वर्ष 247 दिन उत्तरी भारत बनाम यूडीटी प्रांत 1937/38
रिज़वान सत्तार 12 वर्ष 263 दिन मुल्तान बनाम लाहौर सिटी ब्लूज़ 1985/86
वैभव सूर्यवंशी 12 वर्ष 284 दिन बिहार बनाम मुंबई 2023/24
सलीमुद्दीन 12 वर्ष 354 दिन पाकिस्तान कंबाइंड स्कूल बनाम भारतीय 1954/55
कासिम फ़िरोज़ 12 वर्ष 363 दिन बहावलपुर बनाम कराची व्हाइट्स 1970/71
मुश्ताक मोहम्मद 13 वर्ष 43 दिन कराची व्हाइट्स बनाम सिंध 1956/57

Read More

लर्निंग स्कूल ऑफ क्रिकेट एकेडमी में आया बॉलिंग मशीन, खिलाड़ियों में काफी उत्साह

पटना, 16 जून। राजधानी पटना से सटे दानापुर स्थित श्रीराम खेल मैदान पर चलने वाली क्रिकेट एकेडमी लर्निंग स्कूल ऑफ क्रिकेट के प्रशिक्षु अब बॉलिंग मशीन से अभ्यास कर सकेंगे। रविवार यानी 16 जून को पूजा अर्चना के साथ इसकी शुरुआत हुई। सरदार पटेल स्पोट्र्स फाउंडेशन के संस्थापक सचिव सह स्कूल क्रिकेट के प्रोमोटर संतोष तिवारी ने पूजा-अर्चना कर इसके एकेडमी के बच्चों के लिए समर्पित किया।

बॉलिंग मशीन के आने के बाद एकेडमी के प्रशिक्षु काफी खुश नजर आ रहे थे। हर कोई इसके द्वारा फेंके गए बॉल से अभ्यास करने के लिए आतुर था। इस मौके पर संतोष तिवारी ने कहा कि इस मशीन से यहां के प्रशिक्षुओं को अभ्यास करने पर फायदा होगा। उन्होंने एकेडमी के संचालकों को इसके लिए बधाई देते हुए कहा कि आपके एकेडमी के बच्चे आने वाले दिनों में न केवल एकेडमी बल्कि अपने राज्य का भी नाम रौशन करेंगे। इस मौके पर एकेडमी के संस्थापक नवीन कुमार समेत कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

Read More

T20 World Cup 2024: कुदरत के निजाम पर कुदरत का कहर, बारिश के साथ ही धुल गई पाकिस्तान की सुपर-8 में क्वालीफाई करने की उम्मीद, युएसए को हुआ बड़ा फायदा

अमेरिका और वेस्टइंडीज में खेले जा रहे T20 World Cup 2024 में पाकिस्तान को बारिश के कारण बहुत बड़ा नुकसान हो गया है। या यूं कहे तो बिना खेले ही वो टॉप-8 से बाहर हो गए। दरअसल यह मैच पाकिस्तान का था ही नहीं। यह मुकाबला तो अमेरिका और आयरलैंड के बीच खेला जा रहा था जो बारिश के कारण रद्द हो गया और अमेरिका को एक प्वाइंट्स मिला। जिसके बाद पहली बार वर्ल्डकप में खेल रही अमेरिका की टीम टॉप-8 में क्वालीफाई कर गई और पाकिस्तान बिना खेले ही बाहर हो गया।

फ्लोरिडा में खेले जाने वाले इस मुकाबले में एक भी गेंद नहीं फेका जा सका। हालांकि एक समय ऐसा लग रहा था कि शायद यह मैच हो जाए लेकिन ऐसा हो नहीं सका। इस दौरान पाकिस्तानी समर्थक ने ट्विटर (एक्स) पर कुदरत का निजाम को ट्रेंड करवाने लगा लेकिन कुदरत को कुछ और ही मंजूर था। बारिश के कारण यह मुकाबला रद्द कर दिया गया। मैच धुल जाने से पाकिस्तान की उम्मीदें भी धुल गई और वो अगले राउंड में नहीं पहुंच सके।

अंपायरों ने कई बार मैदान का निरीक्षण करने के बाद आउटफील्ड गीली होने के कारण मैच को रद्द करने का फैसला किया। जिसका मतलब यह हुआ कि पाकिस्तान की मजबूत टीम उस टूर्नामेंट से बाहर हो गई, जिसे उन्होंने 2009 में जीता था। अमेरिका ने ग्रुप लीग अभियान को चार मैचों में पांच अंकों के साथ समाप्त किया और पाकिस्तान अगर आयरलैंड के खिलाफ अपना आखिरी मैच जीत भी जाता है तो अधिकतम चार अंकों तक पहुंच सकता है।

पाकिस्तान रविवार को न्यूयॉर्क में भारत के खिलाफ जीत के लिए 120 रन का लक्ष्य हासिल करने में नाकाम रहा था। इससे पहले, डलास में अपने शुरुआती मैच में उसे अमेरिका से सुपर ओवर में करारी हार का सामना करना पड़ा था। दो हार के कारण पाकिस्तान की पहले ही बैकफुट पर थी और अब अमेरिका को मिले 1 अंक ने पाकिस्तान का पत्ता ही काट दिया।

निहाल कुमार दत्ता

Read More

पटना जिला क्रिकेट जूनियर डिवीजन लीग में गुरु गोविंद सिंह कॉलेज फाइनल में, मालसलामी एकादश से होगा खिताबी भिड़ंत

पटना जिला क्रिकेट संघ द्वारा आयोजित जूनियर डिवीजन प्रीमियर लीग के सेमीफाइनल मैच में श्री गुरु गोबिंद सिंह कॉलेज ने एनएमसीसी को 8 विकेट से हराकर फाइनल में जगह बना ली। श्री गुरु गोविंद सिंह कॉलेज और मालसलामी के बीच फाइनल का मुकाबला खेला जाएगा।

एनएमसीसी ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 7 विकेट के नुकसान पर 165 रन बनाए। जिसमें अमित ने 49, विक्रांत ने 27 और अमित कुमार ने 22 रन बनाए। गुरु गोविंद सिंह कॉलेज के लिए मोहम्मद फरहान ने 26 रन देकर 4 और आदर्श ने 20 रन देकर 2 विकेट चटकाए।

पटना जिला क्रिकेट जूनियर डिवीजन प्रीमियर लीग में रवि प्रकाश के हरफनमौला खेल से मालसलामी इलेवन फाइनल में, करबिगहिया को 57 रनों से हराया

जवाब में इस लक्ष्य को पीछा करने में श्री गुरु गोविंद सिंह कॉलेज को कोई ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। महज 2 विकेट खोकर मुकाबले को आसानी से जीतकर फाइनल में प्रवेश किया। गुरु गोविंद सिंह कॉलेज के लिए एके राय ने 84 रनों की पारी खेली। उसके अलावा मोहम्मद नियाज ने 51 रन बनाकर मुकाबले को अपने नाम किया। एनएमसीसी के लिए आलोक ने 1 और सुमित ने 1 विकेट चटकाए।

Read More

T20 World Cup 2024: अमेरिका में खत्म हुआ क्रिकेट का क्रेज, तोड़ा जा रहा नासाउ काउंटी इंटरनेशनल स्टेडियम

T20 World Cup 2024: अमेरिका के नासाउ काउंटी इंटरनेशनल स्टेडियम खेले गए टी20 वर्ल्ड कप के ग्रुप स्टेज के मुकाबले को अब इस स्टेडियम को तोड़ा जा रहा है। इसी के साथ अमेरिका में क्रिकेट का क्रेज भी खत्म हो गया। केवल 100 दिनों में बने इस स्टेडियम को फिर से ध्वस्त कर दिया जा रहा है। यह स्टेडियम लो स्कोरिंग और स्लो पिच के लिए हमेशा याद किया जाएगा। भारत ने इस स्टेडियम में 3 के 3 मैच में जीत दर्ज किया। भारत और यूएस के मुकाबले के बाद ही इस स्टेडियम को तोड़ने का काम शुरू हो गया है।

यह अस्थायी स्टेडियम न्यूयॉर्क के आइजनहावर पार्क में बनाया गया था। इस पार्क को खेल और दर्शकों के लिए सुरक्षित स्टेडियम में तब्दील किया गया था। लेकिन अब अमेरिका में वर्ल्ड कप के मैच खत्म होने के बाद इस स्टेडियम को तोड़ने का काम शुरू हो गया है। इस स्टेडियम को छह सप्ताह में तोड़ दिया जाएगा। भले ही इसमें 34,000 दर्शकों की बैठने की क्षमता थी, पाकिस्तान के खिलाफ भारत के मैच के दौरान स्टेडियम खचाखच भरा हुआ था और टिकटों की कीमतें 10,000 अमेरिकी डॉलर तक पहुँच गई थीं।

भारत ने इस स्थल पर चार मैच खेले, जहां चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के कारण खिलाड़ियों को चोटें भी आईं। ड्रॉप-इन पिचों पर हुए आठ मैचों में कम स्कोर बने, जिससे आलोचना हुई और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने इस पर आपत्ति जताई। सबसे सफल चेज़ भारत द्वारा अमेरिका के खिलाफ 111 रन का था, जबकि आयरलैंड के खिलाफ कनाडा का 137/7 सबसे बड़ा स्कोर था। स्टेडियम में उपयोग की गई सामग्री पहले लास वेगास फॉर्मूला 1 दौड़ और गोल्फ स्पर्धाओं में भी उपयोग की गई थी।

अंशु कुमार

Recent Articles

Subscribe Now
Do you want to subscribe to our newsletter?

Fill this form to get mails from us.