KRIDA NEWS

Search
Close this search box.

KRIDA NEWS

राज्य स्तरीय विद्यालय बालक (अंडर-17) क्रिकेट प्रतियोगिता का खिताब को सारण को, औरंगाबाद को 116 रनों से हराया

राज्य स्तरीय (अन्तर जिला) विद्यालय बालक (अंडर-17) क्रिकेट का खिताब सारण ने औरंगाबाद को 116 रनों से हराकर जीत लिया।कला, संस्कृति एवं युवा विभाग एवं बिहार राज्य खेल प्राधिकरण, पटना के तत्वावधान में वार्षिक खेल कार्यक्रम 2023-24 के अन्तर्गत जिला प्रशासन, पटना द्वारा शहीद वीर कुँवर सिंह पार्क में बुधवार को हुए फाईनल मुकाबले में सारण ने टाॅस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 25 ओवरों में 9 विकेट खोकर 163 रन बनाये। सारण की ओर से राहुल यादव एवं युवराज कुमार ने 35-35 रनों का योगदान दिया जबकि गुड्डु यादव ने 22 रन बनाये। औरंगाबाद की ओर से अक्षय ने 36 रन देकर 4 विकेट, आकाश ने 33 रन देकर 2 विकेट तथा दीपक ने 25 रन देकर 1 विकेट लिया।

जवाब में खेलने उतरी औरंगाबाद की टीम सारण के गेंदबाजों के सामने टिक न सकी और मात्र 47 रन पर ढ़ेर हो गयी। औरंगाबाद के एकमात्र बल्लेबाज अंकित कुमार (14 रन) ही दहाई अंकों में स्कोर कर सके। नवीन ने 6 तथा उत्कर्ष ने 5 रन बनाये। सारण की ओर से गुड्डु यादव ने 5 रन देकर 3 विकेट, मयंक कुमार ने 14 रन 3 विकेट एवं राहुल यादव 7 रन देकर 2 विकेट लिया। रोहित कुमार, सारण के टीम प्रभारी तथा औरंगाबाद की ओर से शशि रंजन मौआर, प्रशिक्षक व टीम प्रभारी मनोज कुमार शामिल थे। फाईनल मैच से पूर्व जिला खेल पदाधिकारी, पटना श्री ओम प्रकाश ने दोनों ही टीमों के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त किया।

फाइनल मुकाबले के बाद संपन्न हुए पुरस्कार वितरण समारोह के मुख्य अतिथि श्री तनय सुल्तानिया, भा.प्र.से., उप विकास आयुक्त, पटना, विशिष्ट अतिथि खगेश चन्द्र झा, अपर जिला दण्डाधिकारी, पटना एवं श्री लोकेश कुमार झा, जिला सूचना जनसम्पर्क पदाधिकारी ने विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया। खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री तनय सुल्तानिया ने विजेता खिलाड़ियों को बधाई तथा हारे हुए खिलाड़ियों को शुभकामना देते हुए कहा कि इस तरह के अवसर आपको खेलों में आगे बढ़ने का मौका देती है।

सभी अतिथियों का स्वागत जिला खेल पदाधिकारी, पटना-सह-आयोजन सचिव श्री ओम प्रकाश ने पौधा एवं स्मृति चिन्ह देकर किया तथा कार्यक्रम का संचालन श्री अभिषेक कुमार, एन.आई.एस. प्रशिक्षक ने किया। पुरस्कार वितरण समारोह में विजेता एवं उप-विजेता टीम को चमचमाती हुई ट्राॅफी के अलावा फाइनल मैच का मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार सारण के राहुल यादव (35 रन और 2 विकेट) तथा टुर्नामेंट का बेस्ट बैट्समैन का पुरस्कार औरंगाबाद के दीपक कुमार (164 रन), बेस्ट बाॅलर का पुरस्कार औरंगाबाद के सोनल सिंह राजपुत (17 विकेट), बेस्ट फील्डर सारण के ऋतिक यादव तथा मैन ऑफ द टुर्नामेंट का पुरस्कार औरंगाबाद के सोनल सिंह राजपुत (130 रन व 17 विकेट) को दिया गया। इसके अतिरिक्त विजेता व उप-विजेता टीम के सदस्यों को पुरस्कृत किया गया।

प्रतियोगिता के अंपायर सुनील कुमार सिंह, जसीम अहमद, आशुतोष कुमार, विकास कुमार, राजु कुमार व रविन्द्र मोहन, स्कोरर राजा कुमार, सचिन कुमार, काॅमेंटेटर मृत्युंजय झा तथा ग्राउंड्समैन सुधीर कुमार, रौशन कुमार, राजेश कुमार, हर्ष कुमार, वरूण कुमार तथा अभय कुमार को विशेष रूप से सम्मानित किया गया।

1. फाईनल मैच का मैन ऑफ द मैच – राहुल यादव, सारण (35 रन और 2 विकेट)
2. बेस्ट बैट्समैन ऑफ द टुर्नामेंट – दीपक कुमार, औरंगाबाद (164 रन)
3. बेस्ट बाॅलर ऑफ द टुर्नामेंट – सोनल सिंह राजपुत, औरंगाबाद (17 विकेट)
4. बेस्ट फिल्डर ऑफ द टुर्नामेंट – ऋतिक यादव, सारण
5. मैन ऑफ द टुर्नामेंट – सोनल सिंह राजपुत, औरंगाबाद (130 रन व 17 विकेट)

Read More

Moin-ul-Haq Stadium में अब जल्द होगा इंटरनेशनल मैच, बीसीए ने स्टेडियम को लेकर बनाया मास्टर प्लान, 40 से 50 हजार दर्शक बैठकर देख सकेंगे मैच

बिहार में जर्जर पड़ी मोइनुल हक स्टेडियम अब पूरी तरह से बदलने वाला है। मोइनुल हक स्टेडियम (Moin-ul-Haq Stadium) को शानदार बनाने के लिए रोडमैप तैयार कर लिया गया है। बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने मोइनुल हक स्टेडियम को नए सिरे से बनाने में जुट गया है। इसमें करीब 40 से 50 हजार दर्शकों को बैठने का इंतजाम किया जाएगा। मैदान पर कैंटीन, पांच सितारा होटल जैसे कमरों की सुविधा के साथ खिलाड़ियों के लिए दो विकेट और दिन-रात में इनडोर-आउटडोर अभ्यास की सुविधा होगी।

पिछले महीने ही बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने सरकार से मोइनुल हक स्टेडियम को लंबे समय के लिए लीज पर ले लिया है। जिसके बाद अब बीसीए बीसीसीआई के साथ मिलकर इस स्टेडियम का कायाकल्प करने की तैयारी में है। लोकसभा चुनाव होने के बाद समझौते के कागजातों पर हस्ताक्षर किया जाएगा।

40 से 50 हजार दर्शकों की क्षमता रहेगी इस स्टेडियम में
क्रिकेट कॉम्प्लेक्स परिसर में सबसे उन्नत तकनीक वाला क्लब हाउस, कॉर्पोरेट बॉक्स और हॉस्पिटैलिटी लाउंज होगा। मुख्य स्टेडियम में बीसीसीआई अध्यक्ष/सेक्रेटरी बॉक्स, मेम्बर्स गैलरी, जनरल गैलरी और 40 से 50 हजार दर्शकों के बैठने के लिए स्टैंड्स होंगे। इसके अलावा कैंटीन और पांच सितारा सुविधाओं वाले 50 से 60 कमरे भी होंगे।

मिलेगी यह सुविधाएं
मोइनुल हक स्टेडियम में घरेलू और बाहरी दोनों टीमों के लिए ड्रेसिंग रूम, फिजियो मसाज रूम, मनोरंजन और रिफ्रेशमेंट के लिए भी जगह रहेगी। इसके अलावा इनडोर क्रिकेट प्रैक्टिस एरीना, स्विमिंग पूल, दिन और रात में आउटडोर प्रैक्टिस की सुविधा रहेगी। इसके अलावा ड्रेनेज सिस्टम और पानी स्टोरेज करने का सिस्टम भी होगा। इसमें पर्याप्त जल व्यवस्था, आसानी से प्रवेश और निकास के लिए गेट होंगे।

बीसीए अध्यक्ष ने बीसीसीआई सहित बिहार के मुख्यमंत्री की तारीफ की
बीसीए अध्यक्ष राकेश कुमार तिवारी ने बताया कि मैदान के निर्माण के लिए इंजीनियरों, ठीकेदारों और विशेषज्ञों के अलावा आइसीसी और बीसीसीआइ के प्रतिनिधियों और सलाहकारों से परामर्श लिया जाएगा। उन्होंने बिहार सरकार और खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी, विजय सिन्हा सहित कैबिनेट सदस्यों को भी धन्यवाद दिया और बीसीसीआई की भी जमकर तारीफ की।

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश तिवारी ने कहा ” नये क्रिकेट कॉम्प्लेक्स से बिहार की क्रिकेट बिरादरी और आम जनता को भी लाभ होगा और वे अपने यहां अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच देखने से वंचित नहीं रहेंगे।”

Read More

बिहार बाल भवन, पटना में लगोरी के खेल का किया गया प्रमोशन

बिहार के पटना में लगोरी खेल (पिट्टो) का बढ़ावा देने के लिए 23 अप्रैल को बिहार बाल भवन, सैदपुर रोड, नया टोला, राजेंद्र नगर पटना के प्रांगण में देश का प्राचीन खेल लगोरी खेल का प्रोमोशन किया गया है। उपरोक्त विषयक आग्रह है कि भारत के प्राचीन खेल व ऐतिहासिक खेल लगोरी जिसका संचालन राज्य में लगोरी ऐसोसिएशन ऑफ बिहार के द्वारा किया जा रहा है।

इस खेल को वर्ष 2023 मे भारत सरकार तथा ओलंपिक एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने मान्यता प्रदान करते हुए गोवा में आयोजित 37वें राष्ट्रीय खेल में शामिल किया है। देश के इस पारंपरिक खेल को 5 हजार वर्ष भगवान श्रीकृष्ण अपने साथियों के साथ खेला करते थे। प्रमाण अपने श्रीमद्भागवत पुराण अन्य धर्मग्रंथों में मिलता है।

इस खेल का जिले में प्रचार प्रसार हेतु पटना जिला लगोरी संघ के द्वारा किलकारी बिहार बाल भवन, पटना के बच्चों के बीच प्रमोशन तथा प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया है। जिससे ज्यादा से ज्यादा बच्चें इस खेल से लाभान्वित हो सके। ‌इस कार्यक्रम में सचिव रंजीत राज, खेल प्रतिनिधि सुजल कुमार, सृष्टि कुमारी आदि मौजूद रहे।

Read More

Yuzvendra Chahal ने रचा इतिहास, IPL में ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज बने, विकटों का लगाया दोहरा शतक

भारत और राजस्थान रॉयल्स के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) ने सोमवार को इंडियन प्रीमियर लीग में 200 विकेट पूरे करने वाला पहला गेंदबाज बनकर इतिहास रच दिया।दाएं हाथ के इस लेग स्पिनर ने यहां सवाई मानसिंह स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स और मुंबई इंडियंस के बीच आईपीएल मुकाबले की पहली पारी के दौरान अफगानिस्तान के बल्लेबाज मोहम्मद नबी को आउट कर यह उपलब्धि हासिल की। चहल ने अपनी ही गेंद पर नबी का कैच लपका।

2013 में किया डेब्यू
चहल ने आईपीएल 2013 में डेब्य किया था। अब तक वह 153 मैच खेल चुके हैं। इनकी 152 पारियों में उन्होंने अपनी घातक गेंदबाजी से 200 विकेट हासिल किए हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 40 रन देकर पांच विकेट हासिल करना रहा है। वह 7.71 के इकोनॉमी रेट से रन खर्च करते हैं। चहल अब तक मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर सहित तीन टीमों के लिए खेल चुके हैं।चहल पिछले साल चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व गेंदबाज ड्वेन ब्रावो (161 मैचों में 183 विकेट) को पीछे छोड़कर आईपीएल के सबसे सफल गेंदबाज बने थे।

आईपीएल में ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज
50 विकेट: आरपी सिंह (12 अप्रैल 2010)
100 विकेट: लसिथ मलिंगा (18 मई 2013)
150 विकेट: लसिथ मलिंगा (6 मई 2017)
200 विकेट: युजवेंद्र चहल (22 अप्रैल 2024)

युजवेंद्र चहल टी20 इंटरनेशनल मैचों में सबसे अधिक विकेट लेने वाले भारतीय हैं। उन्होंने 80 टी20 इंटरनेशनल मैचों में 96 विकेट लिए हैं। इस लिस्ट में दूसरे भारतीय भुवनेश्वर कुमार हैं, जिनके नाम 90 विकेट दर्ज हैं। वर्ल्ड क्रिकेट की बात करें तो इस मामले में न्यूजीलैंड के टिम साउदी नंबर-1 हैं। उन्होंने 123 मैच में 157 विकेट झटके हैं।

दिलचस्प बात यह है कि युजवेंद्र चहल को टी20 क्रिकेट का स्पेशलिस्ट गेंदबाज माना जाता है। युजी के आंकड़े इस बात की गवाही भी देते हैं कि उन्हें जब-जब मौका मिला है, तो वह उम्मीद पर खरे उतरे हैं। इसके बावजूद युजी को टी20 वर्ल्ड कप में एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला है। उन्हें 2022 में हुए टी20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम में शामिल भी किया गया था, लेकिन प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली। अब देखना है कि युजी को जून में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिलता है या नहीं।

Read More

Virat Kohli को अंपायर से उलझना पड़ा भारी, नो बॉल को लेकर की थी बहर, अब BCCI ने लगा दी भारी जुर्माना

स्टार बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) पर सोमवार को कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के खिलाफ रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच के दौरान अंपायर के फैसले पर असहमति दिखाने के लिए उनकी मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया। कोहली लक्ष्य का पीछा करते हुए तीसरे ओवर में हर्षित राणा की फुलटॉस गेंद पर आउट करार दिये गये थे। इस गेंदबाज ने ही कोहली का कैच लपका। इस मैच में केकेआर की टीम ने रविवार को सात विकेट पर 222 रन बनाने के बाद एक रन से रोमांचक जीत दर्ज की।

इंडियन प्रीमियर लीग में नो-बॉल को ऊंचाई से मापने वाली ‘हॉक-आई प्रणाली’ लागू है। इसके तहत क्रीज में बल्लेबाज के कमर की ऊंचाई से गेंद की ऊंचाई का आकलन कर नो बॉल का फैसला किया जाता है। कोहली के बल्ले से जब गेंद का संपर्क हुआ था तब गेंद उनके कमर के ऊपर की ऊंचाई पर थी। वह हालांकि इस समय क्रीज से बाहर थे और गेंद नीचे की ओर आ रही थी।

टीवी अंपायर माइकल गॉफ ने ऊंचाई की जांच की और हॉक-आई ट्रैकिंग के अनुसार, अगर कोहली क्रीज में होते तो गेंद कमर के पास 0.92 मीटर की ऊंचाई से गुजरी होती । इस स्थिति में गेंद कोहली की कमर की ऊंचाई से नीचे होती। ऐसे में गॉफ ने बॉल ट्रैकिंग के पैमाने पर गेंद की ऊंचाई को कोहली की कमर की ऊंचाई से नीचे पाया और उन्हें आउट करार दिया। कोहली हालांकि इस फैसले से सहमत नहीं दिखे उन्होंने गुस्से जैसी प्रतिक्रिया के साथ मैदानी अंपायर से बात की। मैदान से बाहर निकलने के बाद भी उनके चेहरे पर निराशा देखी जा सकती थी।

आईपीएल से जारी बयान के मुताबिक, ‘‘ रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के बल्लेबाज विराट कोहली पर ईडन गार्डन्स, कोलकाता में 21 अप्रैल 2024 को कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ टाटा इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2024 की मैच संख्या 36 के दौरान आईपीएल आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए उनकी मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ कोहली ने आईपीएल की आचार संहिता के अनुच्छेद 2.8 के तहत लेवल एक का अपराध किया है। उन्होंने अपराध स्वीकार कर और मैच रेफरी की सजा को मान लिया।’’ बयान में कहा गया है, ‘‘आचार संहिता के लेवल एक के उल्लंघन के लिए, मैच रेफरी का निर्णय अंतिम और बाध्यकारी होता है।’’ आईपीएल की आचार संहिता के अनुच्छेद 2.8 के तहत लेवल एक का अपराध ‘अंपायर के फैसले पर असहमति दिखाना’ है।

Recent Articles

Subscribe Now
Do you want to subscribe to our newsletter?

Fill this form to get mails from us.