KRIDA NEWS

Search
Close this search box.

KRIDA NEWS

बिहार की लक्ष्मी झा (Lakshmi Jha) माउंट अरारत की चोटी पर तिरंगा फहराने वाली पहली भारतीय बनी, 41 घंटे में पूरी की चढ़ाई

पटना: बिहार के सहरसा जिले के बनगांव की रहने वाली लक्ष्मी झा (Lakshmi Jha) ने तुर्की के सबसे ऊंची चोटी (16854 फिट) अरारत पर्वत पर अपने देश के तिरंगा लहराकर देशवासियों को गौरवान्वित किया। लक्ष्मी ने यह उपलब्धि 41 घंटे में चढ़ाई करके पूरी की। ऐसा करने वाली लक्ष्मी देश की पहली महिला भारतीय बनी। उन्होंने बताया कि चढ़ाई के दौरान -15 डिग्री का टेंपरेचर था जो हड्डी को गला सकता है ऐसे में अपने पथ पर डटे रहना और मंजिल पूरा करने में काफी मुश्किलें आई। लेकिन अगर हौसला हो तो कोई भी मुश्किल से पार पाया जा सकता है।

लक्ष्मी ने 12 अगस्त 2023 को आर के सिन्हा भाजपा के पूर्व सांसद एसआईएस कंपनी के संस्थापक से फ्लैग ऑफ लेकर तुर्की के सबसे ऊंची चोटी (16854 फिट) अरारत पर अपने देश के तिरंगा को फराने के लिए दिल्ली से इस्तांमबुल से दोगुबेयाजित सिटी पहुंची। वहां पहुंचते ही लक्ष्मी झा को पता चला की अरारत चोटी पर मौसम खराब बर्फबारी तेज तूफान हो रहे हैं। इसलिए 15 अगस्त समिट करने का प्लान कैंसिल करना पड़ा 18 को पता चला मौसम सही है, फिर लक्ष्मी झा ने 18 को ही निकल पड़ी समिट के लिए 6 घंटे चढ़ाई करने के बाद पहले पहले बेस कैंप पहुंची। जिसकी ऊंचाई 3000 मीटर है। अगले दिन 3 घंटे की चढ़ाई करके बेस कैंप 4200 मीटर की ऊंचाई पर पहुंची लक्ष्मी को इस मिशन को कम से कम टाइम में पूरी करनी थी।

बेस कैंप के ऊपर केवल बादल ही दिखाई दे रहे थे। मौसम काफी खराब था लक्ष्मी अन्तत: समिट के लिए 21 तारीख के रात को 1:00 बजे निकली । कठिन व खरीद चढ़ाई पर समिट करने में परेशानी हो रही थी। पूरा का पूरा पत्थरों से भरा हुआ रास्ता था जहां पर एक दो बार पत्थर ऊपर से भी आए और एक दो बार खिसक के नीचे भी गिरे बहुत डर भी लग रही थी। ऊपर से हड्डी गला देने वाली -15 डिग्री का टेंपरेचर थी। हिम्मत भी टूट रही थी लेकिन लक्ष्य को पूरा करनी थी।

कोमल कुमारी को नायब स्पोर्ट्स ने क्रिकेट किट किया स्पॉन्सर, बिहार की ओर से अंडर-19 और सीनियर वर्ग में कर चुकी है राज्य का प्रतिनिधित्व

इसी बीच में मेरे गाइड भी मेरे साथ छोड़ दिया। वो बोल रहे थे चलो नीचे चलते हैं। मौसम खराब हो रहा है। लेकिन लक्ष्मी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा, लक्ष्मी ने बताया कि कभी-कभी चलते-चलते हिम्मत भी टूट रही थी लेकिन लक्ष्य को हासिल करना था। राष्ट्रीय ध्वज को देखकर शक्ति मिलती थी कुछ घंटे चलने के बाद जब सवेरा हुआ मंजिल सामने दिखाई दिया तो हौसला और बुलंद हुआ की नहीं अब तो फतेह करके ही जिंदा वापस जाना है। 6 घंटे चलने के बाद भारत का गौरवशाली तिरंगा माउंट अरारत पर फहराया। माउंट अरारत की पूरी चढ़ाई 41 घंटे में पूरी की। लक्ष्मी माउंट अरारत की चढ़ाई करने वाली पहली भारतीय बेटी है। जिसने तुर्की देश के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट अरारत पर भारत का तिरंगा लहराया।

एवरेस्ट बेस कैंप पहुंचने वाली बनी है पहली बेटी
लक्ष्मी झा एवरेस्ट बेस कैंप तक पहुंचने वाली बिहार की पहली बेटी बनी है। उन्हें ये सफलता बहुत संघर्ष के बाद मिली है। जिसमें उनकी मां सरिता देवी का काफी सहयोग रहा है। लक्ष्मी झा के इस उपलब्धि को लेकर परिवार में खुशी का माहौल है। बता दें कि लक्ष्मी झा सहरसा जिले के बनगांव की रहने वाली है और इनके पिता का नाम स्व। बिनोद झा है। जिनकी 17 वर्ष पहले ही मौत हो चुकी है। लक्ष्मी झा 4 भाई बहन में सबसे छोटी है। पिता की मौत के बाद रोजी रोटी का कोई सहारा नहीं होने के कारण उनकी मां काफी मेहनत से अपने चार बच्चों का लालन पालन करती रही और सभी बच्चों को पढ़ाई भी करवाई।

दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो पर भारत का झंडा लहराया
लक्ष्मी झा ने अपने अनुभव को बताते हुए कहा कि भारत की ओर से सबसे पहली महिला है जिसने कम से कम समय में किलिमअंजारो पर्वत की चढ़ाई की है । उन्हें शिखर पर चढ़ने में भी सिर्फ 36 घंटे लगे जबकि अभी तक अन्य लोगो ने 6 से 8 दिन का समय लगाया है। विश्व की सबसे कठिन चढ़ाई में एक चढ़ाई किलिमअंजारो पर्वत को भी माना गया है । इसकी ऊंचाई 58.95 मीटर है जबकि एवरेस्ट की ऊंचाई 88.48 मीटर है।

क्या कहते हैं पूर्व सांसद आर के सिन्हा
मुझसे कई लोग आकर मिलते है जिनके सपने अधूरे होते हैं और वो चाहते हैं कि उनके सपने पूरे हो। एक दिन पर्वतारोही बिहार की बिटिया लक्ष्मी झा मुझसे मिली और उन्होंने अपनी इच्छा बताई , तब मैंने इन्हे उतर काशी के एनआईएएम इंस्टीट्यूट में पर्वतरोही का प्रशिक्षण करवाया जिसका नतीजा है कि सुश्री लक्ष्मी झा ने तुर्की के माउंट अरारत की चोटी पर तिरंगा फहराने वाली पहली भारतीय बेटी बनी। इससे पहले वो दक्षिण अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो पर भारत का झंडा लहरा कर बिहार के साथ साथ पूरे देश का नाम रौशन करने का काम किया है हम सभी को बिहार की बेटी लक्ष्मी झा पर गर्व है।

आर के सिन्हा ने कहा कि बिहार में प्रतिभाओं की कमी नहीं है हर क्षेत्र में बिहार के लोग अव्वल है बस जरूरत है उन्हे सही मार्गदर्शन और सुविधा प्रदान करने की। बिहार सरकर के उदासीनता के कारण बिहार के ये प्रतिभावान खिलाड़ी / पर्वतारोही आगे नही बढ़ पा रहे है। पूर्व सांसद ने कहा की बिहार के छोटे से गांव से आने वाली इस बिहार की बेटी ने पूर्व में काला पत्थर चोटी और माउंट एवरेस्ट बेस कैंप में तिरंगा लहराया है। आर के सिन्हा ने आश्वासन दिया की वे पर्वतारोही लक्ष्मी झा को हर संभव मदद करेंगे जिससे वे आगे भी इसी प्रकार बिहार का नाम पूरी दुनिया में रौशन करते रहें।

Read More

बिहार राज्य सीनियर शतरंज प्रतियोगिता 24 जून से लखीसराय में

अखिल बिहार शतरंज संघ के तत्वावधान में लखीसराय जिला शतरंज संघ द्वारा आगामी 24 जून से बिहार राज्य सीनियर शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता का आयोजन लखीसराय के गांधी मैदान स्थित खेल भवन में किया जाएगा।

नौ चक्रों में खेली जाने वाली इस स्विस शतरंज प्रतियोगिता में कुल तीस हजार की नगद इनामी राशि पुरस्कार स्वरूप वितरित की जाएगी। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तिथि 20 जून है। इस प्रतियोगिता के आधार पर चयनित टीम, राष्ट्रीय शतरंज प्रतियोगिता एवं राष्ट्रीय टीम शतरंज प्रतियोगिता में बिहार का प्रतिनिधित्व करेगी।

प्रतियोगिता के सम्बंध में अधिक जानकारी हेतु अखिल बिहार शतरंज संघ के पदाधिकारियों अथवा प्रतियोगिता के संयोजक शिवप्रिय भारद्वाज से उनके मोबाइल नम्बर 9430238272 पर से सम्पर्क कर सकते है।

Read More

दिव्यांग टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए बिहार दिव्यांग क्रिकेट टीम घोषित, कल 21 मई को पुणे के लिए टीम पटना से होगी रवाना

बिहार दिव्यांग क्रिकेट टीम आगामी 23 मई से पुणे के सिंहगड़ कॉलेज में होने वाले दिव्यांग टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए 21 मई को दानापुर, पटना से रवाना होगी। बिहार दिव्यांग क्रिकेट डेवलपमेंट एसोसिएशन ने इस राज्यस्तरीय क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए बिहार दिव्यांग टीम की घोषणा कर दी है। बिहार का कप्तान अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी धर्मेंद्र कुमार को बनाया गया है।

पुणे में खेले जाने वाले इस टूर्नामेंट में महाराष्ट्र, बंगाल, पुडुचेरी, बडौदा और मध्य प्रदेश को शामिल किया गया है। बिहार को ग्रुप ए में रखा गया है। जिसमें महाराष्ट्र, बिहार और बडौदा की टीम है। वहीं ग्रूप बी में मध्य प्रदेश, पुडुचेरी और बंगाल की टीम को रखा गया है।

बिहार दिव्यांग क्रिकेट डेवलपमेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ अमितेश कुमार ने मीडियाकर्मियों से बात करते हुए बताया कि दिव्ंयाग टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट 23 से 26 तक खेला जाएगा। जिसके लिए धर्मेंद्र के नेतृत्व में टीम की घोषणा की गई है। उन्होंने कहा कि 18 मई को इंडियन वोटिंग लीग में दिव्यांग खिलाड़ियों ने जिस तरह से प्रदर्शन किया है वो काबिले तारीफ है। मुझे पूरा उम्मीद है कि बिहार की टीम पुणे में बिहार का नाम रौशन करेगी। हम जल्द ही बिहार दिव्यांग क्रिकेट लीग का आयोजन भी करने जा रहे हैं।

डीआईपीएल के डायरेक्टर रवि कुमार ने बताया कि भविष्य में अगर कोई ऐसा टूर्नामेंट होता है तब हम अपना पूरा सहयोग देंगे। वहीं लायंस क्लब शुभम पटना के संयुक्त सचिव रूपेश कुमार ने बताया कि दिव्यांगों के लिए हमारी पूरी टीम हमेशा खड़ी रहेगी और जो सहयोग होगा हम जरूर करेंगे। पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी सुरेश मिश्रा पिंकू ने कहा कि अगर इनकी एसोसिएशन चाहेगी तो महीने में एक मैच हम करवाएंगे। वहीं बाकी खेल प्रमियों ने भी दिव्यांगों के कार्यक्रम के लिए अपना सहयोग देने की बात कही।

इस दौरान बिहार दिव्यांग क्रिकेट डेवलपमेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ अमितेश कुमार, सचिव रानी सिन्हा, रूपेश कुमार (लाएंस शुभम पटना के संयुक्त सचिव), डीआईपीएल के डायरेक्टर रवि जी, प्रतीक आर्या (क्रिकेटर सह अधिवक्ता), सुरेश मिश्रा पिंकू ( पूर्व क्रिकेटर एवं कमेंटेटर), मुकुल कुमार (अंशु मेडिकल), इंटरनेशनल टेनिस बॉल खिलाड़ी ऋषि राज मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन सुरेश मिश्रा पिंकू ने किया। वहीं धन्यवाद ज्ञापन उज्जवल सिन्हा ने किया।

बिहार की दिव्यांग टीम इस प्रकार है:-
धर्मेंद्र कुमार (कप्तान), रामनिवास, जितेंद्र कुमार यादव, अंकित कुमार, ब्रजेश कुमार, राम प्रसाद, मनोज कुमार, अमित कुमार यादव, मुकेश कुमार, संतोष कुमार, अमन कुमार, अनंत पांडे, दीपू कुमार, अजय कुमार यादव, योगेश पासवान। सहायक- उज्जवल सिन्हा।

Read More

बिहार राज्य अंडर-17 शतरंज प्रतियोगिता 7 जून से मोतिहारी में

अखिल बिहार शतरंज संघ के तत्वावधान में पूर्वी चंपारण जिला शतरंज संघ द्वारा आगामी 7 जून से बिहार राज्य अंडर 17 शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता का आयोजन अग्रवा, मोतिहारी के हॉस्पिटल चौक स्थित एस एस रॉय होटल में किया जाएगा।

सात चक्रों में खेली जाने वाली इस स्विस शतरंज प्रतियोगिता में कुल दस हजार की नगद इनामी राशि पुरस्कार स्वरूप वितरित की जाएगी। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तिथि 3 जून है। इस प्रतियोगिता के आधार पर चयनित टीम राष्ट्रीय अंडर 17 शतरंज प्रतियोगिता में बिहार का प्रतिनिधित्व करेगी। ध्यान रहे कि इस प्रतियोगिता में वही खिलाड़ी भाग ले सकते हैं जिन्होंने अखिल बिहार शतरंज संघ से अपना पंजीकरण करवा रखा है।

प्रतियोगिता में भाग लेने के इच्छुक खिलाड़ी अथवा प्रतियोगिता के सम्बंध में अधिक जानकारी हेतु दिए गए नम्बरों पर नंदकिशोर 7091975340 , शशिनन्द कुमार 8252653545 पर आयोजकों से सम्पर्क कर सकते है।

Read More

इंडियन वोटर लीग में दिव्यांगजनों ने लगाए ने चौके-छक्के, पटना साहिब की टीम विजयी

पटना के दीधा स्थित मरीन ड्राइव पर खेले जा रहे इंडियन वोटर लीग में दिव्यांगजनों का मुकाबला हुआ। मतदान जागरूक अभियान के तहत इस मुकाबला में दिव्यांगजनों ने पूरे मैच में चौके-छक्के की बारिश कर दी। दिव्यांगों की दो टीम पटना साहिब एवं पाटलिपुत्र के बीच मुकाबला खेला गया। जिसमें पटना साहिब की टीम ने मुकाबला को 13 रनों से जीत लीया।

इंडियन वोटर लीग में दिव्यांगजनों की दोनों टीम ने छह-छह ओवर के मुकाबले में 11 छक्के और 11 चौके लगे। टॉस जीतकर पाटलिपुत्र ने पहले गेंदबाजी चुनी। पटना साहिब ने पहले बल्लेबाजी करते हुए दो विकट पर 82 रन बनाये। इसमें राहुल का योगदान सबसे अधिक रहा, जिसने 16 गेंदों में चार छक्के और पांच चौके की मदद से 49 रन बनाये। संतोष ने 16 गेंदों में एक चौके और दो छक्के की मदद से 22 रन बनाकर उसका सबसे लंबा साथ दिया। बॉलिंग में पाटलिपुत्र के अमन और आशीष को एक एक विकेट मिला।

जवाब में पाटलिपुत्र ने जोरदार प्रयास किया लेकिन पटना साहिब के गेंदबाजों ने लक्ष्य तक नहीं पहुंचने दिया। 11 बॉल में चार छक्कों की मदद से 27 रन बना कर नंदन ने इसको चेज करने का कुछ हद तक प्रयास किया। अंततः उनका स्कोर तीन विकेट खोकर 69 पर सिमट गया और 13 रनों से पटना साहिब मैच जीत गयी। पटना साहिब के राहुल को मैन ऑफ द मैच दिया गया।

दिव्यांगजनों का हौसला बढ़ाने के लिए व्यय प्रेक्षक योगेश कुमार शर्मा, व्यय प्रेक्षक सोनल मेहलावत एवं संयुक्त नगर आयुक्त देवेंद्र सुमन, सीएफओ प्रवीण जी एवं अन्य मौजूद रहे। इस दौरान लायंस क्लब के मेंबर ने दिव्यांगजनों को पुरस्कृत किया। बिहार दिव्यांग क्रिकेट डेवलमेंट एसोसिएशन के तरफ से दोनों टीमें इस इंडियन वोटर लीग में शामिल की गई थी।

Recent Articles

Subscribe Now
Do you want to subscribe to our newsletter?

Fill this form to get mails from us.